खास आपके लिए

[latest][slideshow]

"गंगा" से "गंगूबाई" बनने की कहानी

उसे एक्टिंग का शौक था.. फिल्मों में काम भी करना चाहती थी.. कुल मिलाकर मुंबई की दुनिया उन्हें अपनी तरफ खींच रही थी..

"गंगा" से "गंगूबाई" बनने की कहानी



महज 16 साल की उम्र में वो पिता के अकाउंटेंट से प्यार कर बैठी.. घरवालों को ये गवांरा न था.. तो भागकर अकाउंटेंट के साथ शादी कर ली.. और गंगा हरजीवनदास काठियावाड़ी (गंगूबाई)की जिंदगी का बालकांड यही खत्म हो गया..
यहां से शुरू होती है गंगा से गंगूबाई बनने की कहानी.....

शादी के बाद गंगूबाई को अकाउंटेंट अपने साथ मुंबई ले गया.. गंगा को अपने सपने और करीब से दिखने लगे.. लेकिन गंगा को कहां मालूम था कि एक अलग दुनिया उनका इंतजार कर रही है.. कुछ दिन बाद गंगा को उसके पति ने 500 रुपए में एक कोठेवाली को बेच दिया.. जबतक गंगा को अहसास हुआ कि उसके साथ क्या हुआ.. तब तक वो जा पहुंची थी कमाठीपुर.. मुंबई का मशहूर रेड लाइट एरिया.. गंगा खूब चीखी-चिल्लाई.. लेकिन उनका जोर नहीं चल पाया.. और आखिर में उसने हालातों से समझौता कर ही लिया.. गंगा ने कमाठीपुर के वेश्यालय में रहने का फैसला कर लिया.. और गंगा से गंगूबाई बन गई..

कहानी यहां खत्म नहीं होती...

गंगूबाई का नाम उस वक्त के माफिया डॉन करीम लाला के साथ भी जुड़ा.. एस हुसैन जैदी की किताब के मुताबिक.. डॉन के लिए काम करने वाला एक पठान गंगूबाई और कमाठीपुरा में रह रही औरतों के साथ बदसलूकी करता था.. गंगूबाई ने आव देखा न ताव और पहुंच गई सीधा माफिया डॉन के घर.. गंगूबाई ने डॉन के सामने अपनी बात रखी.. साथ ही उसे राखी बांधकर भाई बना लिया.. जिसके बाद डॉन करीम लाला ने पठान की जमकर पिटाई की.. डॉन के साथ नाम जुड़ते ही गंगूबाई के तेवर बदल गए.. लोग उन्हें "मैडम ऑफ कमाठीपुरा" बुलाने लगे.. "माफिया क्वीन्स ऑफ मुंबई" के मुताबिक गंगूबाई ने रेड लाइट एरिया में काम करने वाली सेक्स वर्कर्स के हक के लिए काम किए..

तो "गंगूबाई काठियावाड़ी" की कहानी को लेकर आ रहे हैं संजय लीला भंसाली...साथ ही इसके फर्स्ट लुक से साफ है.. कि गंगूबाई का किरदार आलिया भट्ट निभा रहीं है.. फिल्म में गंगूबाई की जिंदगी के अनछुए पहलू हमें देखने को मिलेंगे..

No comments:

Please do not enter any spam link in the comment

People's Corner

[people][stack]

Travel corner

[travel][grids]

Movie Corner

[movie][btop]